For your feedback, suggestions and complaints email us at feedback@houseofwisdom.org. We value your suggestions and complaints.

Welcome to House Of Wisdom

दोस्तों यह “House of wisdom” है , केवल “House of academic” नहीं/ यहाँ पर सभी का स्वागत है/ Wisdom सभी का स्वागत करता है/ यहाँ पर सहमति असहमति सभी का यथोचित सत्कार है/ विभिन्न समाज के बिच वैचारिक मतभेद का होना स्वाभाविक प्रक्रिया है/ ऐसी परिस्थिति में संवाद की निरंतरता आपसी मतभेदो का सम्मानित समाधान तलाशने का सबसे बेहतर विकल्प मुहैय्या कराता है/ “Debate not for defeat” बल्कि “Debate for harmony in society” हमारा लक्ष्य है/ इस प्लेटफार्म के माध्यम से हम सभी मिलकर अपने समस्त वैचारिक मतभेद का सौहार्दपूर्ण हल तलाशने का अनवरत प्रयास जारी रखने का संकल्प लेते हैं/ आपका स्वागत है, आप का खैरमकदम है/

आए एक दूजे को समझे

porem ipsum dolor sit amet, consectetuer adipiscing elit, sed diam nonummy nibh euismod tincidunt ut … Read More

क्या ऐसा नही हो सकता हैं !

porem ipsum dolor sit amet, consectetuer adipiscing elit, sed diam nonummy nibh euismod tincidunt ut …
Read More

हम हैं राही प्यार के

porem ipsum dolor sit amet, consectetuer adipiscing elit, sed diam nonummy nibh euismod tincidunt ut …
Read More

क्या करू? आए संवाद करे

porem ipsum dolor sit amet, consectetuer adipiscing elit, sed diam nonummy nibh euismod tincidunt ut …
Read More

Recent Posts
स्वामी विवेकानंद जी का जीवन दर्शन

Harun Ansari | 16-04-2020

15 अगस्त 1886 को स्वामी रामकृष्ण परमहंस इस नश्वर संसार को अलविदा कह देते हैं । इसके बाद माँ शारदा कामारपकुर को प्रस्था

Read More
दूरियों से दरकता विश्वास

Harun Ansari | 16-04-2020

निराधार आशंकाए संबंधो में दूरिया बनाता है और दूरिया आपसी संबंधो में कटुता का विजरोपन करती हैं / अपने आला किरदार, उच

Read More
सौहार्द्य का आनंदमय सफ़र

Harun Ansari | 16-04-2020

जब तक धर्म का अनुसरण अध्यात्मिकता के लिए किया जाता है धर्म अपने वास्तविक स्वरुप में होता है और वह सहिषुण होता है ले

Read More
मंज़िले और भी हैं

Harun Ansari | 16-09-2016

बहुत साडी भ्रान्तिया और अविवेकी सोच मुसलमानों के बीच घर कर चूका है जिनका इस्लाम से कोई लेना देना नहीं परन्तु दुनिय

Read More
क्या करू? आए संवाद करे

Harun Ansari | 07-09-2016

porem ipsum dolor sit amet, consectetuer adipiscing elit, sed diam nonummy nibh euismod tincidunt ut ... Read More

Read More
हम हैं राही प्यार के

Harun Ansari | 07-09-2016

porem ipsum dolor sit amet, consectetuer adipiscing elit, sed diam nonummy nibh euismod tincidunt ut ... Read More

Read More
क्या ऐसा नही हो सकता हैं !

Harun Ansari | 07-09-2016

porem ipsum dolor sit amet, consectetuer adipiscing elit, sed diam nonummy nibh euismod tincidunt ut ... Read More

Read More
आए एक दूजे को समझे

Harun Ansari | 07-09-2016

porem ipsum dolor sit amet, consectetuer adipiscing elit, sed diam nonummy nibh euismod tincidunt ut ... Read More

Read More